सोमवती अमावस्या

हिंदू धर्म में अमावस्या का बहुत महत्व है। इस माह 8 अप्रैल, सोमवार को अमावस्या है। इसे सोमवती अमावस्या के नाम से जाना जाता है। उस दिन भगवान परमेश्वर की पूजा करने और गंगा स्नान करने से सभी वंशानुगत दोष दूर हो जाते हैं। इसलिए आज का दिन बेहद खास माना जाता है. सोमवती अमावस्या के दिन नदी में स्नान करने से पितरों की आत्मा शांत होगी। भाग्य से सुख बढ़ता है. अष्टमी तिथि प्रातः 3.11 बजे प्रारंभ होकर रात्रि 11.50 बजे समाप्त होगी.

इसी दिन मीन राशि में सूर्य ग्रहण भी लग रहा है. इससे कुछ लोगों को परेशानी होने वाली है।’ कुछ को भाग्य का साथ मिलेगा। उस दिन सुबह जल्दी स्नान कर सूर्य को अर्घ्य दें। Slipper, जूते, चावल, छाते, कपड़े का दान करना चाहिए। COW को भोजन कराना चाहिए. उपवास करना उत्तम है. पितरों को तर्पण करने से सौभाग्य की प्राप्ति होती है। कुछ उपाय अपनाकर व्यक्ति धन को दोगुना कर सकता है। GOD शिव का अभिषेक करने के साथ महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना चाहिए। आय के रास्ते खुलेंगे। रवि वृक्ष की 108 परिक्रमा करनी चाहिए। रवि वृक्ष की पूजा करने से अनंत फल मिलता है।

TAURUS
करियर में सफलता से आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। भौतिक सुख-सुविधाओं के साथ जीवन जिएं। आय में वृद्धि होगी और कार्यों में बाधाएं दूर होंगी। वह हर कार्य में सफल होंगे।

कन्या
विवाह होगा. नकदी प्रवाह बढ़ेगा. कर्मचारियों को पदोन्नति के योग हैं. इस राशि को सभी शुभ फल प्राप्त होते हैं।

तुला
व्यवसाय का विस्तार करें. रुके हुए काम पूरे होंगे. नकदी प्रवाह है. आर्थिक रूप से मजबूत हुआ. संपत्ति विरासत में मिलेगी और राजनीति में उत्कृष्टता प्राप्त होगी। संतान से शुभ समाचार मिलेगा।

कुंभ राशि
आय के नए स्रोत आएंगे। आध्यात्मिक गतिविधियों में रुचि. स्वास्थ्य समस्याओं से छुटकारा मिलेगा. विद्यार्थी प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल होते हैं और करियर में सफल होते हैं। हर कार्य में सकारात्मक बदलाव और विचारों के साथ आगे बढ़ें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *