स्मृति ईरानी

स्मृति ईरानी, ​​जिन्होंने 2019 में राहुल गांधी को हराया था, यूपी के अमेठी में कांग्रेस उम्मीदवार किशोरी लाल शर्मा से 1,67,196 वोटों के अंतर से हार गईं।

नई दिल्ली: भाजपा के दिग्गज नेता स्मृति ईरानी, ​​अर्जुन मुंडा और अजय मिश्रा टेनी समेत अन्य 2024 के लोकसभा चुनावों में हार गए। इन हारों ने, खासकर हिंदी पट्टी में, भाजपा को सरकार बनाने के लिए अपने एनडीए सहयोगियों पर निर्भर होने के लिए मजबूर किया है। यह 2014 और 2019 के व्यापक जनादेश से विचलन को दर्शाता है, जब भाजपा ने क्रमशः 282 और 303 सीटें हासिल की थीं, और अपने दम पर बहुमत हासिल किया था।
भारत के चुनाव आयोग ने अब तक 543 लोकसभा क्षेत्रों में से 542 के परिणाम घोषित कर दिए हैं। भाजपा ने 240 सीटें हासिल की हैं, जबकि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस 99 सीटों के साथ पीछे है।

हारने वाले

स्मृति ईरानी: सबसे हाई-प्रोफाइल हार में से एक अमेठी में स्मृति ईरानी की हार थी। सुश्री ईरानी, ​​जिन्होंने 2019 में राहुल गांधी को हराया था, कांग्रेस उम्मीदवार किशोरी लाल शर्मा से 1,67,196 मतों के अंतर से हार गईं। इस हार ने अमेठी में एक युग का अंत कर दिया, जो सुश्री ईरानी के नेतृत्व में कुछ समय के लिए भाजपा का गढ़ रहा था।

अजय मिश्रा टेनी: विवादास्पद लखीमपुर खीरी घटना में उलझे केंद्रीय गृह राज्य मंत्री को समाजवादी पार्टी के उत्कर्ष वर्मा ने 34,329 से अधिक मतों से हराया।

अर्जुन मुंडा: केंद्रीय जनजातीय मामलों के मंत्री को झारखंड के खूंटी निर्वाचन क्षेत्र में कांग्रेस उम्मीदवार कालीचरण मुंडा से 1,49,675 मतों से हार का सामना करना पड़ा।

कैलाश चौधरी: राजस्थान के बाड़मेर में कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री कैलाश चौधरी कांग्रेस के उम्मेद राम बेनीवाल से 4.48 लाख वोट पीछे रहकर तीसरे स्थान पर रहे।

राजीव चंद्रशेखर: केरल के तिरुवनंतपुरम में केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर कांग्रेस के दिग्गज शशि थरूर से 16,077 वोटों से हार गए।

भाजपा की हार सिर्फ इन प्रमुख हस्तियों तक ही सीमित नहीं रही। महेंद्र नाथ पांडे, कौशल किशोर, साध्वी निरंजन ज्योति, संजीव बालियान, राव साहब दानवे, आरके सिंह, वी मुरलीधरन, एल मुरुगन, सुभाष सरकार और निशीथ प्रमाणिक जैसे मंत्रियों को भी चुनावों में हार का सामना करना पड़ा।

केंद्रीय भारी उद्योग मंत्री महेंद्र नाथ पांडे उत्तर प्रदेश की चंदौली सीट से हार गए। आवास एवं शहरी मामलों के राज्य मंत्री कौशल किशोर मोहनलालगंज में समाजवादी पार्टी के आरके चौधरी से 70,292 वोटों से हार गए।

केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण राज्य मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति उत्तर प्रदेश के फतेहपुर से हार गईं। रेल राज्य मंत्री राव साहब दानवे महाराष्ट्र की जालना सीट पर कांग्रेस के कल्याण वैजनाथ राव काले से हार गये। कैबिनेट मंत्री आरके सिंह बिहार के आरा से सीपीआई(एम) के सुदामा प्रसाद से हार गए। केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान मुजफ्फरनगर लोकसभा सीट पर समाजवादी पार्टी के हरेंद्र सिंह मलिक से 24,000 से अधिक मतों के अंतर से हार गए। केंद्रीय विदेश एवं संसदीय कार्य राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन केरल के तिरुवनंतपुरम से हार गए। मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी राज्य मंत्री एल मुरुगन तमिलनाडु के नीलगिरी में डीएमके के ए राजा से 2,40,585 मतों के बड़े अंतर से हार गए। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री निशीथ प्रमाणिक पश्चिम बंगाल की कूच बिहार सीट पर टीएमसी के जगदीश चंद्र बसुनिया से 39,000 से अधिक मतों से हार गए। शिक्षा राज्य मंत्री सुभाष सरकार को पश्चिम बंगाल की बांकुरा लोकसभा सीट पर तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार अरूप चक्रवर्ती ने 32,778 मतों के अंतर से हराया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *