मोदी

मन की बात: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि लोकसभा चुनाव के मद्देनजर उनका मासिक प्रसारण अगले तीन महीने तक प्रसारित नहीं किया जाएगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को ‘मन की बात’ के 110वें एपिसोड को संबोधित किया. अपने संबोधन में मोदी ने समाज में महिलाओं की प्रगति पर प्रकाश डाला। पीएम ने कहा कि कुछ साल पहले तक किसी ने नहीं सोचा था कि हमारे देश में, गांवों में रहने वाली महिलाएं भी ड्रोन उड़ाएंगी। लेकिन आज ये संभव हो रहा है”.

प्रधानमंत्री ने वन्यजीव संरक्षण, पशुधन पालन और आगामी लोकसभा चुनावों के बारे में जागरूकता बढ़ाने जैसे अन्य मुद्दों पर भी बात की।

पीएम मोदी के ‘मन की बात’ के शीर्ष उद्धरण

“कुछ दिनों बाद 8 मार्च को हम महिला दिवस मनाएंगे… भारत की नारी शक्ति हर क्षेत्र में प्रगति की नई ऊंचाइयों को छू रही है… आज महिलाएं जीवन के हर चरण में सफल हो रही हैं।”

“कुछ साल पहले तक किसने सोचा था कि हमारे देश में, गाँवों में रहने वाली महिलाएँ भी ड्रोन उड़ाएँगी? लेकिन आज ये संभव हो रहा है. आज ‘ड्रोन दीदी’ की इतनी चर्चा है…”

“विश्व वन्यजीव दिवस बस कुछ ही दिन पहले है। यह दिन वन्यजीवों के संरक्षण के बारे में जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से मनाया जाता है। इस वर्ष विश्व वन्यजीव दिवस की थीम में डिजिटल नवाचार को सर्वोच्च प्राथमिकता दी गई है।

“पिछले कुछ वर्षों में सरकार के प्रयासों के कारण, देश में बाघों की संख्या में वृद्धि हुई है। महाराष्ट्र के चंद्रपुर के टाइगर रिजर्व में बाघों की संख्या 250 का आंकड़ा पार कर गई है।”

“बेंगलुरु की एक Company ने ‘बघीरा’ और ‘गरुड़’ नाम से ऐप तैयार किया है। ‘बघीरा’ ऐप से जंगल सफारी के दौरान वाहनों की गति और अन्य गतिविधियों पर नजर रखी जा सकेगी।”

“उत्तराखंड के रूड़की में ‘रोटर प्रिसिजन ग्रुप्स’ ने भारतीय वन्यजीव संस्थान के सहयोग से एक Dron विकसित किया है जो केन नदी में मगरमच्छों पर नज़र रखने में मदद कर रहा है।”

“जहाँ तक पशुधन पालन का सवाल है, हम केवल गाय और भैंस तक ही बात सीमित रखते हैं लेकिन बकरियाँ भी एक महत्वपूर्ण पशुधन हैं। देश के अलग-अलग इलाकों में भी कई लोग बकरी पालन से जुड़े हुए हैं. ओडिशा के कालाहांडी में बकरी पालन ग्रामीणों की आजीविका का प्रमुख स्रोत बन रहा है।”

“आगामी लोकसभा चुनावों के मद्देनजर अगले तीन Months तक मन की बात का प्रसारण नहीं किया जाएगा…हालांकि, देश की उपलब्धियां नहीं रुकेंगी। मन की बात हैशटैग के साथ देश की उपलब्धियों को सोशल मीडिया पर पोस्ट करते रहें।”

“आज जिसके पास भी Moblie है वह कंटेंट क्रिएटर बन गया है। कई युवा अलग-अलग क्षेत्रों में सामग्री बना रहे हैं – यात्रा, भोजन, आदि। हमने ‘माईगॉव’ – ‘राष्ट्रीय रचनाकार पुरस्कार’ पर एक प्रतियोगिता शुरू की है… मैं सभी से भाग लेने का आग्रह करता हूं।’

क्षेत्रीय भाषाओं के संरक्षण के महत्व के बारे में बोलते हुए PM ने कहा, ”जम्मू-कश्मीर में गांदरबल के मोहम्मद मंशा जी पिछले 3 दशकों से गोजरी भाषा के संरक्षण के प्रयासों में लगे हुए हैं…अरुणाचल प्रदेश के तिराप के बनवांग लोसु जी एक शिक्षक हैं। उन्होंने वांचो भाषा के प्रसार में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *