नागपुर

पीड़ित की पहचान पुरुषोत्तम पुत्तेवार के रूप में हुई है, जो नागपुर के एक व्यवसायी हैं, जिन्हें 22 मई को नागपुर के बालाजी नगरी में एक तेज रफ्तार कार ने टक्कर मार दी थी।

नागपुर पुलिस ने शहर में एक “हिट-एंड-रन” मामले में 82 वर्षीय एक व्यक्ति की मौत की जांच के दौरान एक भीषण हत्या का खुलासा किया है। पुलिस के अनुसार, पीड़ित की बहू, जिसका नाम अर्चना पुत्तेवार है, ने 300 करोड़ की संपत्ति के विवाद में उनकी हत्या के लिए सुपारी किलर को काम पर रखा था।

पुरुषोत्तम पुत्तेवार के रूप में पहचाने जाने वाले व्यक्ति को नागपुर के एक व्यवसायी के रूप में 22 मई को नागपुर के बालाजी नगरी में एक तेज रफ्तार कार ने टक्कर मार दी थी। न्यूज़18 की रिपोर्ट के अनुसार, इस मामले में दुर्घटना का प्रारंभिक मामला दर्ज किया गया था और चालक को कार सहित छोड़ दिया गया था, लेकिन एक शीर्ष पुलिस अधिकारी के हस्तक्षेप से विस्तृत जांच को बढ़ावा मिला।

जांच के बाद पता चला कि आरोपी अर्चना ने अपने ससुर की हत्या करवाने के लिए कॉन्ट्रैक्ट किलर को 1 करोड़ रुपए देने का वादा किया था। मंगलवार को पुलिस ने टाउन प्लानिंग डिपार्टमेंट की असिस्टेंट डायरेक्टर अर्चना को प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तार किया। साथ ही, उनके सहयोगियों – माइक्रो स्मॉल मीडिया एंटरप्राइजेज के डायरेक्टर प्रशांत पारलेवार और चार अन्य को भी इस मामले में गिरफ्तार किया।

मामले में गिरफ्तार किए गए अन्य लोगों की पहचान संदिग्ध कॉन्ट्रैक्ट किलर नीरज ईश्वर निमजे (30), सचिन मोहन धार्मिक (29) और परिवार के ड्राइवर सार्थक बागड़े (29) के रूप में हुई है। समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, एक अन्य आरोपी पायल नागेश्वर (28) मुख्य आरोपी की निजी सहायक है। पुलिस के अनुसार, हत्या की मूल योजना अर्चना, नागेश्वर और बागड़े ने बनाई थी। धार्मिक को बीयर बार का लाइसेंस दिलाने का वादा किए जाने के बाद वह हत्या की साजिश का हिस्सा बन गया। सभी आरोपियों को 15 जून तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है।

पीटीआई ने क्राइम ब्रांच के एक अधिकारी के हवाले से बताया कि अर्चना को गुरुवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। इस बीच, पुलिस ने आरोपियों के पास से दो कारें, एक एसयूवी, 140 ग्राम सोना, 3 लाख रुपये, सात मोबाइल फोन और अन्य सामग्री जब्त की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *