वैकुंठ एकादशी

हिंदू रीति-रिवाजों में वैकुंठ एकादशी एक पवित्र दिन है। इस दिन का उद्देश्य भगवान विष्णु की पूजा करना है। इस दिन भक्त उपवास करते हैं, विष्णु के मंदिर में जाते हैं, विशेष प्रार्थना करते हैं और GOD से आशीर्वाद मांगते हैं। दक्षिण भारत में, वैकुंठ एकादशी सभी Vishnu मंदिरों में मनाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण दिन है।

इस साल 23 दिसंबर, शनिवार को वैकुंठ एकादशी व्रत मनाया जा रहा है। 22 दिसंबर वैकुंठ एकादशी के मुहर्त की आरंभ तिथि है, जो 23 दिसंबर को समाप्त होती है। भक्तों का मानना है कि यदि आप इस अवधि के दौरान उपवास करते हैं और GOD Vishnu के दर्शन प्राप्त करते हैं, तो आप स्वर्ग में जाएंगे।

वैकुंठ एकादशी का महत्व

महत्व हिंदू धर्म में वैकुंठ एकादशी का अत्यधिक धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व है। इस दिन भगवान Vishnu ही भक्ति के एकमात्र पात्र होते हैं। कई दक्षिण भारतीय राज्यों में, इस एकादशी को एक महत्वपूर्ण छुट्टी के रूप में मनाया जाता है। तिरूपति Tirumala Temple विशेष रूप से इस दिन को बड़ी धूमधाम से मनाता है। उस दिन, बहुत सारे भक्त वेंकटेश्वर से प्रार्थना करने के लिए इस मंदिर में आते हैं।

Vaikuntha Ekadashi भगवान Vishnu की पूजा के लिए एक महत्वपूर्ण दिन है, जो सौभाग्य, धन और संतुष्टि का प्रतिनिधित्व करते हैं। इस दिन भक्त श्री हरि स्तोत्र और विष्णु सहस्रनाम का पाठ करते हैं। वे बड़ी श्रद्धा से व्रत भी रखते हैं. ऐसा माना जाता है कि जिन लोगों पर इस दिन भगवान विष्णु की कृपा होती है वे सीधे वैकुंठ धाम की ओर बढ़ते हैं। इसके अतिरिक्त, ऐसा माना जाता है कि वे जन्म और मृत्यु के चक्र से बच जाते हैं।

वैकुंठ एकादशी

वैकुंठ एकादशी के दिन व्यक्ति को क्या करना चाहिए?

  1. वैकुंठ एकादशी के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करने और साफ कपड़े पहनने की प्रथा है।
  2. घर और पूजा कक्ष को साफ करने के बाद, विष्णु की मूर्ति को एक लकड़ी के तख्ते पर स्थापित करें और उसे सजाएं।
  3. Vishnu प्रतिमा के बाद दीपक जलाएं और केसर और पीले चंदन का तिलक लगाएं।
  4. श्री हरि स्तोत्रम और विष्णु सहस्रनाम का पाठ करने की सलाह दी जाती है। 108 बार कहें, ओम नमो भगवते वासुदेवाय।
  5. श्री Krishna महा मंत्र का जाप भी भक्त कर सकते हैं।
  6. अब शाम के समय पूजा-अर्चना करनी चाहिए और विष्णु सहस्रनाम का पाठ करना चाहिए।
  7. पूजा का काम पूरा करने के बाद फल खाकर व्रत तोड़ सकते हैं। वैकुंठ एकादशी के दिन घर पर खीर और हलवा जैसी मीठी चीजें बनाई और बांटी जा सकती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *