जमशेदपुर

जमशेदपुर, 2 जून: नक्शा विचलन पर हाईकोर्ट के सख्त रुख का असर जमशेदपुर अधिसूचित क्षेत्र समिति (जेएनएसी) की टीम के प्रवर्तन अभियान पर साफ दिखाई दे रहा है। शनिवार को साकची गोलचक्कर के पास शताब्दी टावर और एसएनपी एरिया होल्डिंग नंबर 53 के बेसमेंट में स्थित दुकानों को एक बार फिर मजदूरों की मदद से ध्वस्त कर दिया गया। इससे पहले 8 मई को भी इसी तरह की कार्रवाई की गई थी, जब साकची गोलचक्कर के पास शताब्दी टावर के बेसमेंट में स्थित गोदामों और दुकानों को ध्वस्त किया गया था।

निरीक्षण के दौरान एसडीओ पारुल सिंह ने जेएनएसी टीम को शताब्दी टावर के बेसमेंट में बची हुई दो दुकानों को ध्वस्त करने का निर्देश दिया। इसके अनुसार, गिरीश कुमार तिवारी और अन्य के स्वामित्व वाले साकची होल्डिंग नंबर 53 के बेसमेंट और शताब्दी टावर की बची हुई दो दुकानों को ध्वस्त कर दिया गया। इसके अलावा, कार्रवाई के दौरान पास की एक चाय की दुकान को भी खाली कराया गया।

वर्ष 2011 में न्यायालय के आदेश के बाद साकची में 46 भवनों के बेसमेंट और ग्राउंड फ्लोर को सील कर दिया गया था। भवन स्वामियों द्वारा बेसमेंट को पार्किंग स्थल में बदलने के आश्वासन के बावजूद नियमों का उल्लंघन करते हुए व्यावसायिक गतिविधियां जारी रहीं। उच्च न्यायालय में दायर जनहित याचिका (पीआईएल) के जवाब में जेएनएसी की टीम ने बेसमेंट में स्थित दुकानों और गोदामों को ध्वस्त करना फिर से शुरू कर दिया है। हालांकि, बेसमेंट को पूरी तरह से खाली कराना अभी भी बाकी है। धालभूम एसडीओ को इस मामले में उच्च न्यायालय में हलफनामा प्रस्तुत करना है। नतीजतन, जिन भवनों के बेसमेंट हाल ही में खाली कराए गए हैं, वहां बची हुई सभी दुकानों को हटाने का लक्ष्य बनाया जा रहा है।

भवन मानचित्र स्वीकृति के लिए हलफनामा आवश्यक

जमशेदपुर, 2 जून: जमशेदपुर अधिसूचित क्षेत्र समिति (जेएनएसी) के अधिकार क्षेत्र में स्वीकृत भवन योजनाओं का पालन सुनिश्चित करने के लिए अब वास्तुकारों और भवन स्वामियों को हलफनामा प्रस्तुत करना होगा। इन हलफनामों में स्पष्ट रूप से स्वीकृत मानचित्रों के अनुसार भवन निर्माण के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दर्शानी होगी। जेएनएसी स्वीकृत योजनाओं से किसी भी विचलन के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू करेगा, जिसके लिए भवन मालिक और वास्तुकार दोनों को जिम्मेदार ठहराया जाएगा।

जेएनएसी के डिप्टी म्यूनिसिपल कमिश्नर ने इस बात पर प्रकाश डाला कि बिल्डिंग बायलॉज के अनुसार, व्यावसायिक इमारतों के बेसमेंट या ग्राउंड फ्लोर में पार्किंग का प्रावधान अनिवार्य है। हालांकि, बिल्डिंग मैप में शुरुआती प्रावधानों के बावजूद, कई बिल्डर बेसमेंट को व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए दुकानों या शोरूम में बदल देते हैं, जिससे शहर में पार्किंग की समस्या और बढ़ जाती है।

पिछले चार महीनों में, जेएनएसी ने मानचित्र अनुमोदन के लिए दस्तावेजों की गहन जांच की है, जिसके परिणामस्वरूप 37 आवेदनों में से केवल चार को ही मंजूरी दी गई है। इस देरी ने जेएनएसी के राजस्व को भी प्रभावित किया है, मई में केवल 3,59,000 रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ, जबकि पिछले साल इसी अवधि में 24,24,000 रुपये से अधिक का राजस्व प्राप्त हुआ था। यह कदम बिल्डिंग नियमों को बनाए रखने और शहरी नियोजन चुनौतियों का प्रभावी ढंग से समाधान करने के लिए जेएनएसी की प्रतिबद्धता को रेखांकित करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *